आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान पर पड़ी कोरोना लॉकडाउन की मार, बेरोजगार हो सकते हैं 1.85 करोड़ लोग


पाकिस्तान आर्थिक सर्वेक्षण 2019-20 में चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं, जिसमें पता चला है कि देश में 14 लाख से 1.85 करोड़ लोग बेरोजगार होने जा रहे हैं. सर्वेक्षण में कहा गया है कि कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) की वजह से चल रहे प्रतिबंध और राष्ट्रव्यापी बंद से देश के कम से कम 2.2 फीसदी कर्मचारियों के बेरोजगार होने के संकेत मिले हैं.

जबकि सीमित प्रतिबंधों के साथ राष्ट्रव्यापी बंद के मामले में, देश में बेरोजगारों की संख्या लगभग 14 लाख हो जाएगी. मौद्रिक संदर्भ (Monetary reference) में बात करें तो नौकरी छूटने से कुल नुकसान कम से कम 23.6 अरब PKR का होने की संभावना है.

अगर मीडियम राष्ट्रव्यापी बंद के हिसाब से देखें तो नौकरी का नुकसान कम से कम 1.23 करोड़ तक हो सकता है. इसके साथ ही मजदूर वर्ग के कम से कम 20 प्रतिशत लोगों को काम न मिलने के कारण कम से कम 20.96 करोड़ PKR का नुकसान होगा.

दूसरी ओर एक पूर्ण राष्ट्रव्यापी बंद कम से कम 1.853 करोड़ लोगों को प्रभावित करेगा, जो कि श्रम बल का लगभग 30 प्रतिशत है. इससे 315 अरब PKR का नुकसान होगा.

संघीय बजट 2019-20 में सरकार ने लगाए कर

ऐसे समय में जब दुनिया मंदी के दौर में है, पाकिस्तान की संघीय सरकार ने देश के वार्षिक बजट 7,294.9 अरब PKR की घोषणा करते हुए दावा किया कि नया बजट बिना किसी नए कर के घोषित किया गया है.

हालांकि वित्तीय विशेषज्ञों ने खुलासा किया है कि सरकार ने वास्तव में कम से कम 200 अरब PKR के अतिरिक्त कर लगाए हैं, जिसका उद्देश्य 4,963 खरब PKR लक्ष्य को प्राप्त करना है.

आर्थिक विशेषज्ञ शाहबाज राणा ने कहा, सरकार द्वारा कम से कम 120 अरब PKR अतिरिक्त आयकर उपायों का प्रस्ताव किया गया है. फिर भी यह दावा कर रही है कि लोगों पर कोई कर का बोझ नहीं डाला गया है.

उन्होंने कहा कि इसी तरह लगभग 80 अरब PKR बिक्री कर उपाय से अतिरिक्त राजस्व के तौर पर सिगरेट और एनर्जी ड्रिंक्स से जुटाए गए हैं. पाकिस्तान के संघीय उद्योग एवं उत्पादन मंत्री हम्माद अजहर ने शुक्रवार को बजट पेश करते हुए दावा किया था कि सरकार ने कोई नया कर नहीं लगाया है.

इमरान खान की अगुवाई वाली सरकार ने रक्षा बजट में 11.9 प्रतिशत की वृद्धि का भी प्रस्ताव किया है. इसके साथ ही सरकार ने उन दावों को भी नकार दिया है, जिसमें कहा जा रहा था कि कोरोनावायरस के कारण प्रभावित हुई आर्थिक स्थिति के बीच सैन्य खर्च में कोई परिवर्तन नहीं किया जाएगा.

चालू वित्त वर्ष के दौरान 1,152 अरब PKR की तुलना में 2020-21 के लिए पाकिस्तान का रक्षा बजट 1,289 अरब PKR होगा

Post a Comment

0 Comments