स्टार्टअप्स चाइनीज Apps से बेहतर ऐप बना सकते हैं



केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने मोदी सरकार के 59 चीनी ऐप्स को बैन करने के फैसले का स्वागत किया और इस पहल को ‘आत्मनिर्भर भारत’ से जोड़ा. जावड़ेकर ने सोशल मीडिया पर कहा, “पूरा देश 59 चीनी ऐप्स पर रोक लगाने के नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार के फैसले का स्वागत कर रहा है. यह भारतीय स्टार्टअप्स को बढ़ने का काम करेगा और वे जल्द ही इसके बेहतर वर्जन के साथ सामने आएंगे. यह आत्मनिर्भर भारत के लिए सही कदम है.”

देश के ज्यादातर युवा सरकार के फैसले के साथ

वहीं बैन होने के बाद TikTok ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि वह भारत सरकार के आदेश के अनुसार ऐप को बंद करने की प्रक्रिया में है. भारत में अधिकतर युवा चाइनीज ऐप्स (China Apps) के बंद होने से बेहद खुश हैं. उन युवाओं का कहना है कि इन सबसे उनकी पढ़ाई का नुकसान होता था. अब वे अपनी पढ़ाई पर ठीक से ध्यान दे पाएंगे.

भारत-चीन सीमा विवाद के बीच लिया गया फैसला

बता दें कि मोदी सरकार ने Tiktok, WeChat, UC Browser और Xiaomi के Mi कम्युनिटी समेत 59 चीनी ऐप्स को राष्ट्रीय सुरक्षा की चिंताओं को देखते हुए बैन कर दिया है. सरकार के बैन लगाने के बाद यूजर्स इन्हें अपडेट नहीं कर पाएंगे. भारत सरकार ने यह निर्णय ऐसे समय लिया है जब कुछ दिन पहले पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन (India-China) की सेना के बीच हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे और इस वजह से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है.

Post a Comment

0 Comments