बुंदेलखंड के हर घर में पहुंचेगा नल से जल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का तोहफा



लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुंदेलखंड के हर घर में पानी की व्यवस्था करने के लिए एक नई योजना की शुरुआत करेंगे। पीने के पानी की समस्या से लम्बे समय से जूझ रहे प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र को योगी आदित्यनाथ सरकार मंगलवार को बड़ा तोहफा दे रही है। झांसी के मोठ के ग्राम मुराटा में सीएम योगी आदित्यनाथ 2.185 करोड़ रुपया की 12 ग्रामीण पाइप पेयजल योजना के निर्माण कार्य का शुभारम्भ करेंगे। उनके साथ केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, उत्तर प्रदेश के जल शक्ति मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह तथा राज्यमंत्री मनोहर लाल ‘मन्नू कोरी’ भी रहेंगे।




इस योजना का लाभ बुंदेलखंड के झांसी सहित सात जिलों के 3622 राजस्व गांवों की 67 लाख की आबादी को मिलेगा। सूखे के लिए अभिशप्त माने जाते रहे बुंदेलखंड में पेयजल योजनाएं तो बहुत शुरू हुईं, लेकिन तमाम जिले अब भी सूखे की मार झेल रहे हैं। इसी परेशानी को देखते हुए 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांदा की रैली से जल जीवन मिशन की घोषणा की थी। योगी आदित्यनाथ सरकार ने भी राज्य पेजयल योजना के तहत बुंदेलखंड में काम शुरू कराया। इसके साथ ही प्रधानमंत्री के जल जीवन मिशन को जमीन पर उतारने के लिए कसरत शुरू कर दी गई। तय हुआ कि चार चरणों में परियोजनाएं पूरी होंगी, जिनकी कुल अनुमानित लागत 10131 करोड़ रुपये होगी।




पहले चरण में बुंदेलखंड के सात जिले झांसी, महोबा, ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, बांदा और चित्रकूट में पेयजल पाइप लाइन बिछाई जानी है। इसका लाभ सातों जिलों की 67 लाख आबादी को मिलेगा। उत्तर प्रदेश में हर घर तक नल से जल पहुंचाने के जल जीवन मिशन की शुरुआत उत्तर प्रदेश में बुंदेलखंड क्षेत्र से हो रही है। आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ झांसी के मुराटा गांव में भूमिपूजन कर मिशन की नींव रखेंगे। सूखे बुंदेलखंड की प्यास बुझाने के इस बड़े मिशन के शुभारंभ समारोह में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत भी शामिल होंगे। बुंदेलखंड में मिशन की शुरुआत झांसी, महोबा और ललितपुर से हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि बुंदेलखंड का कोई घर प्यासा नहीं रहे और हर घर तक नल का जल पहुंचाया जाए।




सर्फेस वॉटर और अंडरग्राउंट वॉटर के माध्यम से घर घर तक पेयजल पहुंचाया जाएगा। पहले चरण में बुंदेलखंड और विंध्याचल में अगले दो साल के भीतर हर घर तक पीने का पानी पहुंचेगा। बुंदेलखंड क्षेत्र के जिले झांसी, महोबा, ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, बांदा और चित्रकूट के कुल 4513 राजस्व ग्राम हैं, जिनमें से 891 राजस्व ग्राम पहले से ही पेयजल योजनाओं से आच्छादित हैं। शेष 3622 राजस्व गांवों की लगभग 67 लाख आबादी के लिए 479 योजनाओं द्वारा पाइप पेयजल की व्यवस्था की जा रही है। झांसी के जिलाधिकारी आंद्रा वामसी ने बताया कि परियोजना की शिला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ झांसी में रखेंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ का गौशाला निरीक्षण और पौधरोपण का भी कार्यक्रम है। मेडिकल कॉलेज के नॉन कोविड अस्पताल का निरीक्षण करेंगे।


Post a Comment

0 Comments