योगी जी, बहन की जिंदगी बचा लीजिए, एसपी नेता ने मुख्यमंत्री को खून से लिखा खत

कोरोना वायरस (Coronavirus Updates India) के बीच अस्पतालों के हाल भी बेहाल नजर आ रहे हैं। उधर, आजमगढ़ में समाजवादी पार्टी के एक नेता ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खून से खत लिखा है। खत लिखकर शख्स ने अपनी बहन की जिंदगी बचा लेने की गुहार लगाई है।


सीएम योगी से मदद की गुहार

   



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खून से खत लिखकर एसपी नेता ने मार्मिक अपील की है


शख्स की बहन की किडनी 85 फीसदी तक खराब हो चुकी है, वह जिंदगी और मौत से जूझ रही


कोरोना संक्रमण की वजह से उसे केजीएमयू या पीजीआई में भर्ती नहीं किया जा रहा है


एसपी नेता ने कहा है कि अगर बहन का उपचार न हुआ तो छोटे-छोटे बच्चे अनाथ हो जाएंगे


आजमगढ़
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को खून से पत्र लिखकर समाजवादी पार्टी के एक नेता ने मार्मिक अपील की है। शख्स ने अपनी बहन की जिंदगी बचाने की गुहार लगाई है। उसने कहा है कि उसकी बहन की किडनी 85 फीसदी तक खराब हो चुकी है। वह जिंदगी और मौत से जूझ रही है लेकिन कोरोना वायरस (Coronavirus Latest News India) के संक्रमण की वजह से उसे केजीएमयू या पीजीआई में भर्ती नहीं किया जा रहा है। शख्स ने कहा है कि अगर बहन का उपचार न हुआ तो छोटे-छोटे बच्चे अनाथ हो जाएंगे। मेरी बहन की जिंदगी और उसके बच्चों को अनाथ होने से बचा लीजिए।
मूल रूप से कंधरापुर थाना क्षेत्र के पहाड़पुर गांव निवासी समाजवादी पार्टी (एसपी) के नेता लालजीत यादव मंगलवार को कलेक्ट्रेट पहुंचे। यहां उन्होंने डीएम कार्यालय के नीचे स्टैंड में बैठकर सीएम योगी को पत्र लिखा। लालजीत यादव ने बताया कि उनकी बहन की तबीयत खराब थी, जिसे लेकर वह शहर के प्राइवेट अस्पतालों में गए। अस्पताल में पता चला कि उनकी 85 प्रतिशत किडनी खराब है। डॉक्टरों ने उन्हें लखनऊ पीजीआई के लिए रिफर कर दिया।


'...ताकि बच जाए जिंदगी'
लालजीत का कहना है, 'मैंने अपनी बहन को लखनऊ पीजीआई और केजीएमयू में भर्ती कराने का प्रयास किया। वहां भी निराशा मिली। इसके पीछे कारण बताया गया कि वर्तमान समय में कोरोना की वजह से पीजीआई या केजीएमयू में कोई उपचार नहीं हो सकता है। बहन जिंदगी और मौत से जूझ रही है।' उन्होंने जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर गुहार लगाई है कि उनकी बहन की जिंदगी बचा लें।

Post a Comment

0 Comments