चाइनीज बुलेटप्रूफ जैकेट पहन कर चीन से मुकाबला करेंगे भारतीय सैनिक?

सरकार 1.8 लाख नए बुलेटप्रूफ जैकेट का ऑर्डर देने वाली है। दरअसल पिछले ऑर्डर में वेंडर ने यूएस और यूरोप का सामान दिखाकर कॉन्ट्रैक्ट हासिल किया और चीन से कच्चा माल आयात किया। ऐसे में संभावना है कि नए टेंडर में भी वेंडर चीन से जरूरी सामान आयात कर सकते हैं।


चाइनीज बुलेटप्रूफ जैकेट पहन कर चीन से मुकाबला करेंगे भारतीय सैनिक?

   



1.8 लाख नए बुलेटप्रूफ जैकेट का ऑर्डर देने वाली है सरकार


गृह मंत्रालय 50 हजार बुलेटप्रूफ जैकेट की खरीदारी कर रहा है


पिछली बार वेंडर ने चीन से आयात कर लिया था जैकेट का रॉ मटीरियल


सिलेक्शन प्रॉसेस में दिखाया यूएस का सामान, इस्तेमाल किया चीन का


नई दिल्ली
गलवान घाटी झड़प (India China Border Face Off) के बाद चीन से हर तरह के रिश्ते तोड़ने की बात चल रही है। लेकिन इसी बीच सैनिकों को मिलनेवाली बुलेटप्रूफ जैकेट में ही चीनी लिंक मिल गया है, जिसपर विवाद है। दरअसल, गृह मंत्रालय जल्द ही सेना के लिए 50 हजार बुलेटप्रूफ जैकेट की खरीदारी करनेवाला है। इस जैकेट का इस्तेमाल ITBP के जवान भी करेंगे जो लाइन ऑफ एक्चुएल कंट्रोल यानी LAC पर चीन से देश की रक्षा करते हैं। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि जो देश हमारे जवानों को धोखे से मार रहा उसके यहां की चीजें सेना को देना कितना सही है।
वेंडर चीन से खरीद रहा माल
बुलेटप्रूफ जैकेट के इस ऑर्डर पर सरकार असमंजस में है। सरकार को सेना के लिए जल्द बुलेटप्रूफ जैकेट भी चाहिए और यह भी पता चला है कि वेंडर चीन से माल ले रहा है। फिलहाल रक्षा मंत्रालय ने सोचा है कि 1.8 लाख नए बुलेटप्रूफ जैकेट का जो ऑर्डर पहले दिया गया था उसे ऐसे ही चलने दिया जाए। समस्या यह है कि 2019 में वेंडर ने अमेरिका और यूरोप का जैकेट दिखाकर कॉन्ट्रैक्ट ले लिया और बाद में चीन से रॉ मटीरियल आयात कर उसे तैयार किया। ऐसे में इस बात की पूरी संभावना है कि नए ऑर्डर में भी वेंडर जैकेट बनाने के लिए सबसे जरूरी हाई परफॉर्मेंस पॉलिथिन (HPPE) चीन से आयात कर सकता है। रक्षा मंत्रालय चाहता है कि जल्द से जल्द 1.8 लाख बुलेटप्रूफ जैकेट का ऑर्डर दिया जाए।

बुलेटप्रूफ जैकेट के इस महीने तीन टेंडर
बुलेटप्रूफ जैकेट को लेकर इस महीने तीन टेंडर आ रहे हैं। इनमें से दो ITBP जवानों के लिए और एक टेंडर CRPF जवानों के लिए है। तीनों टेंडर को लेकर यह नहीं कहा गया है कि वेंडर चीन से सामान का आयात नहीं कर सकते हैं। मतलब, वेंडर इस फैसले के लिए स्वतंत्र हैं कि उन्हें रॉ मटीरियल चीन से मंगवाना है या किसी दूसरे देश से मंगवाना है।

Post a Comment

0 Comments