मुंबई: कोरोना मरीजों के लिए 'फरिश्ता' बने दो युवा, कुछ ऐसे कर रहे हैं मदद

मुंबई में दो युवा मुफ्त में कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन सिलिंडर मुहैय्या करा रहें है। दोनों में से एक ने लोगों को ऑक्सीजन सिलिंडर उपलब्ध कराने के लिए अपनी कार भी बेच दी है।


मुफ्त सिलेंडर बांटकर कर रहे मदद

   


अविनाश पाण्डेय, मुंबई
मुंबई में कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। रोजाना हजारों की संख्या में मामले सामने आ रहे हैं, वहीं अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी भी देखने को मिल रही है। ऐसे में मुंबई के दो युवा कोरोना मरीजों के लिए मसीहा बनकर के सामने आए हैं। इन दोनों युवकों का नाम है- शाहनवाज शेख और अब्बास रिजवी। ये दोनों युवक मिलकर के मुंबई में कोरोना मरीजों को मुफ्त में ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया करा रहे हैं।

रिश्तेदार की ऑक्सीजन सिलेंडर न मिलने से हुई थी मौत
कोरोना के इस संकट में एक दिन अब्बास रिजवी की भाभी की तबीयत अचानक खराब हो गई थी। जिस पर परिवार उनको लेकर एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल भटकता रहा। लेकिन उन्हें कहीं पर भी जगह नहीं मिली। सांस लेने की तकलीफ की वजह से लगातार उनका ऑक्सीजन का लेवल कम होता जा रहा था। ऐसे में एक अस्पताल के बाहर ही उन्होंने ऑक्सीजन की कमी के चलते दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद से अब्बास रिजवी ने यह ठान लिया कि मुंबई शहर में किसी भी गरीब की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं होने देंगे। उसके बाद से ही उन्होंने अपने दोस्त के साथ मिलकर इस नेक काम को करना शुरू किया।

डॉक्टर की सलाह पर मुफ्त में मिलेगा ऑक्सीजन सिलेंडर
शाहनवाज शेख और अब्बास रिजवी दोनों दोस्त मिलकर यूनिटी एंड डिग्निटी नाम की एक एनजीओ चलाते हैं। इस एनजीओ के माध्यम से अब वह पूरे मुंबई शहर में मुफ्त में ऑक्सीजन सिलेंडर बांट रहे हैं। इस ऑक्सीजन सिलेंडर को हासिल करने के लिए डॉक्टर के लिखी हुई प्रिस्क्रिप्शन पेपर अनिवार्य होना चाहिए जिसके बाद घर पर ले जाने के लिए ऑक्सीजन का सिलेंडर मुहैया करा दिया जाएगा। यदि कोई घर पर सिलेंडर ले जाने में असमर्थ हैं तो एनजीओ के वॉलिंटियर्स खुद घर पर जाकर सिलेंडर पहुंचा देंगे तथा उसके इस्तेमाल के बारे में भी जानकारी देंगे।

ऑक्सीजन सिलेंडर देने के लिए बेच डाली कार

शुरुआत में मदद करने में आ रही पैसों की तंगी की वजह से अब्बास रिजवी ने अपनी फोर्ड एंडेवर कार भी बेच दी। ताकि लोगों को मुफ्त में सिलेंडर पहुंचाने का यह मिशन रुक ना जाए। यह सुविधा हर उस व्यक्ति के लिए है जो कोरोना पॉजिटिव है। लेकिन उसे अस्पताल में बेड की सुविधा उपलब्ध नहीं हो पा रही और ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है। ऐसे में वह व्यक्ति यहां संपर्क कर सकता है।

ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए रोजाना आते हैं 20 से 25 कॉल
पूरे मुंबई शहर में यह दोनों युवा मुफ्त में ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाने का काम कर रहे हैं। ऐसे में उन्होंने अपना मोबाइल नंबर भी सोशल मीडिया पर वायरल किया हुआ है, ताकि लोग इस मोबाइल नंबर पर फोन करके सीधा इनसेे संपर्क कर सकते हैं। शाहनवाज और अब्बास ये दोनों दोस्त यूनिटी एंड डिग्निटी नाम की NGO चलते है। इस NGO के माध्यम से कोरोना की इस महामारी में ये बड़ा और नेक काम कर रहे हैं। अब तक 300 लोगों को मुफ्त में सिलेंडर देने का काम यह दोनों युवा कर चुकेे हैं।

Post a Comment

0 Comments