मिजोरम की हसीन वादियों में आकर खो जाएगा आपका दिल, मौजूद हैं देखने लायक स्थल

पहाड़ी खूबसूरती को लेकर जो लोग बहुत ज्यादा उत्साहित रहते हैं उन्हें मिजोरम की सैर एक बार जरूर करनी चाहिए। पूर्वोत्तर भारत के इस खूबसूरत राज्य में लगभग 21 आकर्षक ऊंची-ऊची पर्वतीय चोटिया हैं। पहाड़ी और पहाड़ियों के बीच मनमोहक घाटियां पूर्वोत्तर भारत के इस राज्य को एक परफेक्ट हॉलिडे डेस्टिनेशन बनाने का काम करती हैं। परिवार और  मित्र-संबधियों के साथ एक शानदार अवकाश मिजोरम की फिजाओं के बीच बिताया जा  सकता है।

मिजोरम पूर्वोत्तर के तीन राज्यों की सीमाओं के छूता है। असम, मणिपुर और त्रिपुरा ये वो राज्य हैं जो मिजोरम से बेहद करीब हैं। इसके अलावा बांग्लादेश और म्यानमार मिजोरम के दो पड़ोसी देश हैं। इस खास लेख में हमारे साथ जानिए पर्यटन के  लिहाज से मिजोरम आपके लिए कितना खास है, और इन गर्मियों आप कौन से चुनिंदा स्थानों की सैर का प्लान यहां बना सकते हैं।

आइजोल
आइजोल, मिजोरम का सबसे बड़ा और खूबसूरत राजधानी शहर है, जो समुद्र तल से लगभग 1132 मीटर की ऊंचाई पर पहाड़ियों पर बसा है। आइजोल के पहाड़ी आकर्षण को देखते हुए इसे  हाइलैंडर्स का घर भी कहा जाता है। प्राकृतिक खूबसूरती और सांस्कृतिक दृष्टि से ये राज्य का सबसे समृद्ध शहर माना जाता है। मिजोरम घूमने आए पर्यटकों के मध्य आइजोल काफी लोकप्रिय है। गर्मियों के दौरान आप यहां एक यादगार अवकाश की योजना बना सकते हैं।

 डर्टलांग हिल्स, बंग, तामदील झील, पईखाई, मिनी जूलॉजिकल गार्डन,  मिजोरम राज्य संग्रहालय, लुआंगमूल हस्तशिल्प केंद्रस  सिबुता लंग आदि यहां के चुनिंदा सबसे खास पर्यटन स्थल हैं, जिनकी सैर का प्लान आप मिजोरम भ्रमण के दौरान कर सकते हैं।    

चम्फाई
मिजोरम का एक और सबसे खबसूरत पहाड़ी  स्थल है चम्फाई जो लगभग 1678 मीटर की ऊंचाई पर बसा है। चम्फाई में आप राज्य से सबसे बड़े समतल मैदान को देख सकते हैं। इसके अलावा यह पहाड़ी गंतव्य आपको म्यानमार की शानदार पहाड़ियों के अद्भुत दृश्यों को देखने का मौका भी प्रदान करता है।

आप यहां खबूसूरत फलों के बागानों की सैर भी कर सकते हैं। यह राज्य का सबसे अधिक फलों का उत्पादन करने वाला क्षेत्र  है, जिसे मिजोरम का फलों का कटोरा भी कहा जाता है।  

इन सब के अलावा चम्फाई ऐतिहासिक तौर पर भी काफी ज्याया मायने रखता है। यहां आप कई प्रचानी धरहरों और साक्ष्यों को देख सकते हैं। मुरलेन नेशनल पार्क,  रिह दिल झील,  क्वलकुलह, फॉन्गपुई पीक लेन्टेंग हिल्स, लेंगटेन्ग वन्यजीव अभयारण्य यहां के चुनिंदा सबसे खास स्थान हैं। 

लुंगलेई
लुंगलेई राज्य का दूसरा सबसे बड़ा शहर है, जो राजधानी शहर आइजोल से भी अधिक ऊंचाई पर बसा है। लुंगलेई शब्द की उत्पत्ति यहां के पत्थर से हुई है जिसका आकार कुछ पुल जैसा है। अधिक ऊचाई पर बसे होने के कारण ये गंतव्य प्राकृतिक खूबसूरती को निहारने का एक आदर्श विकल्प माना जाता है।

यहां की आकर्षक पहाड़ियां, चारों तरफ फैली हरियाली और समृद्ध संस्कृति पर्यटकों को यहां आने के लिए मजबूर करती है।  लुंगलेई  - रॉक ब्रिज, खॉन्ग्लंग वन्यजीव अभयारण्य, साजा वन्यजीव अभयारण्य आदि यहां के चुनिंदा पर्यटन स्थल हैं जिनकी सैर का प्लान आप इन गर्मियों बना सकते हैं।

Post a Comment

0 Comments