‘कामचोर’ पति को कुछ ऐसे करें हैंडल, सरपट दौड़ेगी आपकी शादीशुदा जिंदगी की गाड़ी

आलसी पतियों से निपटना एक कठिन काम हो सकता है, लेकिन यह असंभव नहीं है। घर के कामकाजों से लेकर रोजमर्रा की दूसरी चीजों तक आप उनकी इस कमी को बदलने के लिए कई चीजें कर सकती हैं।


   


क्या आप भी अपने आलसी पति से परेशान हैं? क्या आपके पति भी घर के किसी काम में आपकी मदद नहीं करते? क्या आपको भी लगता है कि उनका आलसीपन आपकी शादीशुदा जिंदगी को बर्बाद कर रहा है? तो ये कुछ ऐसे सवाल हैं जिनसे आप ही नहीं बल्कि भारत में रह रही हर दूसरी शादीशुदा महिला परेशान है। आलस एक ऐसी विलासिता है जिसका विशेष रूप से अधिकांश पति आनंद उठाते हैं। हैरानी की बात तो यह है कि शिक्षित माताएं भी अपने बेटे की इस कमी को नजरअंदाज कर देती हैं। जिसका खामियाजा बाद में उनकी पत्नी को भुगतना पड़ता है।

अक्सर आपने रिश्तेदारों को यह कहते सुना होगा कि "लड़के की शादी करवा दो, उसकी पत्नी उसे सही रास्ते पर ले आएगी। लेकिन कभी आपने इस बात पर ध्यान दिया है कि शादी के बाद उसकी पत्नी उसके आलसी, स्वार्थी, बेकार जीवन का एक केंद्र बन जाती है। जी हां, एक रिपोर्ट में इस बात का दावा किया गया है कि भारतीय पुरुष दिन में केवल 19 मिनट ही घर के कामकाज में अपना समय बिताते हैं। वह अपने खाने-पीने की चीजों से लेकर दूसरे कामकाज तक घर की महिलाओं पर ही निर्भर रहते हैं। 

भारत में घरेलू कामकाज के संदर्भ में लैंगिक असमानता (Gender inequality) आज भी बनी हुई है। लड़कियों को जहां शुरूआत से ही घर के सारे कामकाज सिखाएं जाते हैं, तो वहीं लड़कों को आज भी इन चीजों से परे रखा जाता है जो समय के साथ-साथ उन्हें आलसी और दूसरों पर निर्भर रहने वाला बना देता है। हम मानते हैं कि आलसी पतियों से निपटना एक कठिन काम हो सकता है, लेकिन यह असंभव नहीं है। घर के कामकाजों से लेकर रोजमर्रा की दूसरी चीजों तक आप उनकी इस कमी को बदलने के लिए कई चीजें कर सकती हैं।


* हो सकता है कि किसी दिन आपके पति ऑफिस के कामकाज में इतना थक चुके हों, जिसके कारण वह आपकी मदद नहीं कर पा रहे हों, तो इसका सिर्फ यह मतलब है कि आपके पति को एक ब्रेक की जरूरत है। लेकिन अगर ऐसा लंबे समय तक चलता रहा तो मान लीजिए कि वह स्वाभाविक रूप से एक आलसी व्यक्ति है।

* उनकी जीवनशैली को बदलने के लिए सबसे अच्छे तरीकों में से एक कि आप अपने आलसी पति को हर दिन इस बात का एहसास कराए कि उनके आलस्य के कारण घर या परिवार की जिम्मेदारियां आप पर कितनी बढ़ गई हैं। धीरे-धीरे उनके साथ बातचीत शुरू करें कि आप उनकी इस आदत की वजह से कैसा महसूस करती हैं।

* यदि आप अपने पति को रसोई में या बच्चों के किसी काम में अपनी मदद करने के लिए कहती हैं, तो वह अपने आलसीपन को छिपाते हुए पुरुष की श्रेष्ठता का पाठ पढ़ाने की कोशिश करते हैं, तो स्थिति में उनसे बहस न करके उन्हें उनकी जिम्मेदारियों का एहसास कराएं। साथ ही यह सुनिश्चित करें कि जब भी वह किसी काम को अच्छी तरह से करते हैं तो आप उनकी तारीफ करने में कोई कसर न छोड़ें। 

* स्वाभाविक रूप से काम से जी चुराने वाले किसी व्यक्ति के साथ धैर्य रखना असंभव- सा लगने लगता है, यह विशेष रूप से उस समय सबसे मुश्किल हो जाता है जब ऐसा आपके पति के साथ हो। ऐसी स्थिति में गुस्सा करके या खुद को तनावग्रस्त करके आपको कोई लाभ मिलने वाला नहीं है। कोशिश करें कि उन पर जिम्मेदारियों का बोझ डालें।

Post a Comment

0 Comments