PM मोदी का 16 मिनट का संबोधन नीतीश को दिलाएगा बिहार विधानसभा चुनाव में जीत? समझें पूरा राजनीतिक समीकरण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को करीब 16 मिनट राष्ट्र को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana) छठ तक बढ़ाने की घोषणा की। पीएम की कही बातों का संदर्भ निकाला जाए जाए तो सीधे-सीधे इसका जुड़ाव आगामी बिहार विधानसभा चुनाव से दिख रहा है।


navbharat-times


   


पीएम मोदी ने करीब 16 मिनट तक राष्ट्र को संबोधित किया


संबोधन का मुख्य बात यह थी कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना नवंबर तक बढ़ाया गया


पीएम मोदी ने योजना के विस्तार की अवधि बताने के लिए छठ पूजा शब्द का प्रयोग


इसके बाद से आरजेडी, कांग्रेस जैसी विपक्षी पार्टियां आरोप लगा रही हैं कि पीएम कोविड पर राजनीतिक कर रहे हैं


पटना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार शाम चार बजे देश को संबोधित किया। करीब 16 मिनट के इस संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्य रूप से तीन बातें कही। संबोधन की शुरुआत में पीएम मोदी ने देश में अनलॉक लागू होने पर लोगों की ओर से की जा रही लापरवाही पर नाराजगी जाहिर की। पीएम ने देशवासियों से कहा कि अनलॉक का मतलब ये नहीं है कि आप कोरोना वायरस से पूरी तरह मुक्त हैं। उन्होंने लोगों से पहले जैसी ही सावधानी बरतने की बात कही। दूसरी बड़ी बात पीएम ने यह कही कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना नवंबर तक चलेगी। तीसरी और अहम बात पीएम ने यह बताई कि देश में एक राष्ट्र एक राशन कार्ड लागू करने पर काम शुरू हो चुका है। पीएम के संबोधन की तीन अहम बातों में से दो ऐसी बातें हैं जिसके कई राजनीतिक मायने भी निकलते हैं। पीएम की कही बातों का संदर्भ निकाला जाए जाए तो सीधे-सीधे इसका जुड़ाव आगामी बिहार विधानसभा चुनाव से दिख रहा है। आइए इसे विस्तार से समझने की कोशिश करते हैं।

योजना का समय बताने के लिए PM ने लिया त्योहार का नाम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि हमारे यहां वर्षा ऋतु के दौरान और उसके बाद मुख्य तौर पर एग्रीकल्चर सेक्टर में ही ज्यादा काम होता है। अन्य दूसरे सेक्टरों में थोड़ी सुस्ती रहती है। जुलाई से धीरे-धीरे त्योहारों का भी माहौल बनने लगता है। त्योहारों का ये समय, जरूरतें भी बढ़ाता है, खर्चे भी बढ़ाता है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक, यानि नवंबर महीने के आखिर तक कर दिया जाए।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के विस्तार का समय बताने के लिए पीएम मोदी केवल नवंबर महीने का नाम ले सकते थे, लेकिन उन्होंने इसे समझाने के लिए दिवाली और छठ त्योहार का नाम लिया। यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि बिहार में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव प्रक्रिया अक्टूबर-नवंबर में संपन्न होने की संभावना है। वहीं इस साल 18 नवंबर से नहाय-खाय के साथ छठ पूजा शुरू होगी।

कोरोना वायरस और लॉकडाउन की वजह से बिहार में करीब 25 लाख प्रवासियों की घर वापसी हुई है। इन सभी लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट है। इन लोगों के लिए गरीब कल्याण योजना किसी वरदान से कम नहीं साबित हो रहा है। पीएम मोदी ने जैसे ही कहा कि छठ तक राशन मिलता रहेगा। इससे साफ संकेत है कि छठ तक प्रवासियों को रोजी-रोटी के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है।

Post a Comment

0 Comments