PMFBY: 31 जुलाई तक के लिए सरकार ने बढ़ाई इस योजना के लिए रजिस्ट्रेशन की तारीख, जानें आवेदन करने का तरीका.

भारत के प्रधानमंत्री जाने कि नरेंद्र मोदी द्वारा कई ऐसी योजनाएं और स्कीम चलाई गई है, जिनके माध्यम से गरीब तबके के लोगों और किसानों को मदद मिल सके। इसी के चलते सरकार द्वारा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का भी आरंभ किया गया था।

इस योजना को 13 जनवरी 2016 में शुरू किया गया था। वही खरीफ की फसलों के लिए बीमा की अंतिम तिथि 31 जुलाई 2020 है, जिन किसानों ने अपने पहले से कर्ज ले रखा है और बीमा की सुरक्षा नहीं चाहते हैं तो आखिरी तारीख 7 दिन पहले बैंक की शाखा को इस बारे में जानकारी देनी होगी। इसके अलावा जिन किसानों में बैंक से किसी तरह का कर्ज नहीं लिया हुआ है। वह भी सीएससी बैंक किया एजेंट के माध्यम से बीमा करा सकते हैं। किसान चाहे तो होटल पर खुद जाकर फसल बीमा करा सकता है।

 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के माध्यम से बेमौसम बारिश और प्राकृतिक आपदाओं जैसे परेशानियों से फसल को बीमा दिया जाता है। मौसम में अचानक आए बदलाव या मानसून के दौरान किसानों की मेहनत पर सिर्फ पानी के लिए सरकार उन्हें सहारा देती है। ऐसे में किसान को निराश नहीं होना पड़ता और आत्महत्या का रास्ता नहीं देखना पड़ता। इस फसल बीमा योजना से किसानों को काफी मदद पहुंचाई जा चुकी है।

जैसा कि आप सभी जानते हैं कोरोना वायरस संक्रमण महामारी के चलते देशभर में ऐसी स्थिति बनी हुई है,जिसमे सरकार ने किसानों को राहत दिलाने के लिए कई काम किए हैं। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत अब तक 10 राज्यों के किसानों को 1008 करोड़ के दावों का भुगतान किया जाएगा। सरकार की यह कोशिश भी जारी है कि इस योजना से ज्यादा से ज्यादा किसान जुड़ जाएं। साल 2018 और 19 तक सिर्फ 507.987 लाख हेक्टेयर क्षेत्र के लोगों का ही बीमा हो पाया था।

मौजूदा समय में सरकार ने बीमा कंपनियों के सामने इस बार की शर्तें रखी है, जिससे किसानों का हेतु सुरक्षित रहे इसके अंतर्गत बीमा का अधिकांश प्रीमियम केंद्र व राज्य सरकार अपने आपसे मिला कर देती हैं। किसानों को खरीफ फसलों का कुल प्रीमियम जो बनता है, उसका 2%, रबी फसलों का 15% और बागवानी नकदी फसलों पर अधिकांश 5% प्रीमियम देना होता है। ऐसे में सरकार की कोशिश यही होती है कि किसानों के ऊपर ज्यादा बोझ ना पड़े।

 

इस योजना के लाभार्थी बनने के लिए किसान ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही माध्यम से आवेदन कर सकता है। यदि भविष्य्य में सभी प्राकृतिक आपदा जैसी परेशानी का सामना करना पड़ता हैै तो आप इस बीमा कवर से अपनी परेशानियों को कम कर सकते हैं।

 

वैसे तो इस स्कीम के साथ सरकार द्वारा कई नियम व शर्तें भी लागू की जातीी हैं। जिनमें से सबसे बड़ा नियम यह है कि किसानों को 72 घंटों के भीतर बीमा कवर के लिए आवेदन करना होगा। इस बीमा योजना का लाभ तभी प्राप्त हो सकता है। जब किसान को प्राकृतिक आपदा के चलते फसल का नुकसान हुआ है।

 

इतना ही नहीं, योजना के लाभार्थी ही बीमा क्लेम के लिए आवेदन कर सकते हैं  योजना के अंतर्गत वाणिज्यिक और बागवानी फसलो  के लिए बीमा कवर दिया जाता है। किसान अपने बीमा कवर हेतु क्लेम के लिए कंपनी की टोल फ्री नंबर 18002005142  या फिर  1800120909090 पर कॉल करके भी बीमा कंपनी और कृषि विभाग से संपर्क कर सकते हैं। यह प्रक्रिया 72 घंटों के भीतर करना आवश्यक है

Post a Comment

0 Comments