शिव 'राज' में होंगे 2 डेप्युटी सीएम? जानिए, कैबिनेट में 'पेंच' की Inside Story

   


navbharat-times


शिवराज कैबिनेट का विस्तार को लेकर अभी तक अंतिम निर्णय नहीं


कैबिनेट विस्तार में 2 डिप्टी सीएम को लेकर भी फंस रहा है पेंच


पुराने चेहरों को कैबिनेट में नहीं शामिल करना चाहती है पार्टी


शिवराज की पसंद को पार्टी ने कर दिया है रिजेक्ट?


भोपाल
शिवराज कैबिनेट का विस्तार फिर से टल गया है। जानकारी के अनुसार अभी कई चीजों लेकर मामला उलझा हुआ है। मीडिया फ्रेंडली शिवराज अभी मौन हैं। दिल्ली से लौटने के बाद मंगलवार शाम को सिर्फ इतना कहा है कि 1 जुलाई को कैबिनेट का विस्तार नहीं होगा। सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार अभी कैबिनेट विस्तार में कई पेंच है। आलाकमान शिवराज के पुराने साथियों को कैबिनेट में शामिल नहीं करना चाहती है।

इसके साथ ही शिवराज सरकार में दो डेप्युटी सीएम को लेकर भी मामला उलझ गया है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा और सिंधिया के करीबी तुलसी सिलावट डेप्युटी सीएम के दावेदार हैं। नरोत्तम मिश्रा अभी दिल्ली में कैंप किए हुए हैं और पार्टी के बड़े नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। सूत्रों के अनुसार बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में 22 विधायकों के साथ आने के वक्त 2 डेप्युटी सीएम को लेकर वादा किया था। इसके साथ ही केंद्रीय नेतृत्व शिवराज कैबिनेट में युवा चेहरों को मौका देना चाहती है। ऐसे में शिवराज की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

2 दिन के दिल्ली दौरे के बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान मंगलवार को भोपाल लौट आए हैं। दिल्ली दौरान के दौरान बीजेपी के केंद्रीय नेताओं के साथ शिवराज चौहान ने कई मीटिंग की है। साथ ही पीएम मोदी से भी मुलाकात की है। भोपाल में मंगलवार की शाम उन्होंने कहा कि 1 जुलाई को कैबिनेट का विस्तार नहीं होगा। लेकिन जल्द ही हो जाएगा। बुधवार को प्रभारी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भोपाल आ सकती हैं।

यहां है पेंच
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने कैंप से एक डेप्युटी सीएम और 11 मंत्री चाहते हैं। हालांकि आधिकारिक तौर पर बीजेपी ने 2 डेप्युटी सीएम के फॉर्मूला को नकार दिया है। हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से प्रदेश के एक सीनियर नेता ने कहा है कि कैबिनेट में 2 डेप्युटी सीएम को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है।वहीं, पार्टी नेतृत्व ने शिवराज कैबिनेट में नए चेहरों को मौका देना चाहती है। क्योंकि 2018 के विधानसभा चुनाव में 17 कैबिनेट मंत्री चुनाव हार गए थे। उसके बाद हम उन्हें इग्नोर नहीं कर रहे हैं। केंद्रीय नेतृत्व के साथ भी बातचीत के दौरान उन नामों पर चर्चा हुई है, जो शिवराज कैबिनेट में 3 बार से मंत्री रहे हैं।

Post a Comment

0 Comments