बुंदेलखंड को सौगात मुख्यमंत्री योगी ने 2,185 करोड़ की 12 परियोजनाओं की शुरुआत की

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि, आजादी के बाद से ही बुंदेलखंड की उपेक्षा हुई है। राजनीतिक नेतृत्व अगर ध्यान देता तो सूखे व पलायन की मार यहां की जनता को न झेलनी पड़ती।


मुख्यमंत्री के साथ केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह भी मौजूद रहे


सीएम दौरे से पहले नजरबंद किए गए बुंदेलखंड निर्माण मोर्चा के अध्यक्ष, अवैध खनन से संबंधित सबूत देने के लिए समय मांगा था


झांसी. कोरोना वैश्विक संकट के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज बुंदेलखंड में 2,185 करोड़ की 12 ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजनाओं के निर्माण कार्यों की शुरूआत की। झांसी के मुराटा गांव में सीएम योगी ने केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत व यूपी के मंत्री महेंद्र सिंह के साथ भूमि पूजन किया। इस जल जीवन मिशन की शुरूआत झांसी, महोबा, ललितपुर से हो रही है। पहले चरण में बुंदेलखंड के सात जिले झांसी, महोबा, ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, बांदा और चित्रकूट में पाइप लाइन बिछाई जानी है। इससे करीब 67 लाख आबादी को लाभ मिलेगा। चार चरणों में परियोजनाएं पूरी होंगी, जिनकी कुल लागत 10131 करोड़ रुपए है।

अब पानी के लिए नहीं जाना होगा दूर

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि, आजादी के बाद से ही बुंदेलखंड की उपेक्षा हुई है। राजनीतिक नेतृत्व अगर ध्यान देता तो सूखे व पलायन की मार यहां की जनता को न झेलनी पड़ती। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां डिफेंस कॉरिडोर, एक्सप्रेस वे जैसी परियोजनाओं की नींव रखी। बुंदेलखंड में बनी तोपें सीमा पर दुश्मनों के दांत खट्टे करेंगी। सीएम ने कहा कि, तीन जिलों में लागू होने वाली हर घर नल से जल योजना पर युद्धस्तर पर काम हो रहा है।

सीएम योगी, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह ने किया भूमि पूजन।

दो साल में योजना हो जाएगा साकार

सीएम ने कहा कि, जल जीवन मिशन का पहला केंद्र बुन्देलखण्ड बन रहा है। अब यह क्षेत्र विकास से वंचित नहीं रहेगा। शुद्ध पेयजल से भी बुन्देलखण्ड वंचित नहीं रहेगा। फरवरी 2019 में पीएम ने पाइप पेयजल योजना का शिलान्यास किया था। हमारा लक्ष्य था कि दस वर्षों तक मेन्टिनेंट की जिम्मेदारी सम्बंधित कार्यदायी संस्था को मिले। 


दो वर्ष में हर ग्राम पंचायत में हर घर नल की योजना को साकार करेंगे। यहां की माताओं को अब पेयजल के लिए दूर नहीं जाना पड़ेगा। लेकिन, जल के एक-एक बूंद के संरक्षण का संकल्प बुन्देलखण्ड के हर नागरिक को लेना पड़ेगा। 


कोरोना संक्रमण को लेकर सीएम योगी ने कहा कि पहले आप स्वयं संक्रमण से बचें। फिर दूसरों को बचाएं। दूसरों को बचाने में जैसे छोटे बच्चे बुजुर्ग और गर्भवती महिलाएं हैं। पेयजल स्वास्थ्य के लिए भी संकट है जीविका के लिए भी संकट है। आज इन सभी समस्याओं का समाधान हो रहा है। भारी संख्या में लोगों को इन योजनाओं के तहत रोजगार मिलेगा।


सीएम को अवैध खनन के सबूत देने जा रहे नेता को नजरबंद किया

मुख्यमंत्री के दौरे से पहले बुंदेलखंड निर्माण मोर्चा के अध्यक्ष भानु सहाय को सोमवार रात 10 बजे से नजरबंद कर दिया गया है। भानु सहाय ने बुंदेलखंड के कई क्षेत्रों से अवैध खनन के वीडियो और फोटो साक्ष्य के रूप में इकट्ठे किए थे। अवैध खनन पर कठोर कार्रवाई की मंशा से वे सबूत सीएम को सौंपना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने जिला प्रशासन से समय मांगा था। लेकिन, उन्हें समय नहीं दिया गया। सोमवार रात 10 बजे नई बस्ती चौकी इंचार्ज पांच सिपाहियों के साथ उनके घर गए और उन्हें शहर कोतवाली लेकर आए। काफी समझाने-बुझाने के बाद जब वे नहीं माने तो उन्हें हाउस अरेस्टिंग में रखा गया है। घर में नजरबंद भानु सहाय की निगरानी करने के लिए 3 सिपाही, एक दरोगा को लगाया गया है।

Post a Comment

0 Comments