आरोग्य सेतु ऐप में आई तकनीकी समस्या, कुछ देर के ल‍िए यूजर हुए परेशान

आरोग्‍य सेतु ऐप ने मंगलवार देर रात को अचानक से काम करना बंद कर द‍िया। इससे यूजर्स को कुछ देर के ल‍िए परेशानी हुई। इस बीच रात करीब 12 बजे तकनीकी गड़बड़ी को ठीक कर ल‍िया गया।


आरोग्‍य सेतु ऐप ने काम करना बंद क‍िया

   




आरोग्‍य सेतु ऐप ने देर रात को अचानक कुछ देर के लिए काम करना बंद कर दिया


यूजर जब इस ऐप में लॉग-इन करने की कोशिश कर रहे थे तो उन्‍हें इरर दिखाई दे रहा था


रात करीब 12 बजे तकनीकी गड़बड़ी को दूर कर ल‍िया गया और ऐप अब काम करने लगा है


नई दिल्‍ली
कोरोना वायरस के संक्रमण से जनता को बचाने के लिए बनाए गए आरोग्‍य सेतु ऐप ने देर रात को अचानक कुछ देर के लिए काम करना बंद कर दिया। यूजर जब इस ऐप में लॉग-इन करने की कोशिश कर रहे थे तो उन्‍हें बार-बार इरर दिखाई दे रहा था। आरोग्‍य सेतु ऐप की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि लॉग इन में दिक्‍कत आ रही है और हमारी तकनीकी टीम इसे ठीक करने में लगी हुई है। रात करीब 12 बजे तकनीकी गड़बड़ी को दूर कर ल‍िया गया और ऐप अब काम करने लगा है।
आरोग्‍य सेतु ऐप के काम नहीं करने पर सोशल मीडिया में अटकलों का बाजार गरम हो गया था कि कहीं इसे हैक तो नहीं कर लिया गया है। आरोग्य सेतु ऐप 2 अप्रैल को लॉन्च किया गया था। यह ऐप आपके आस-पास कोरोना मरीज या कोई संभावित कोरोना पेशेंट है इसकी जानकारी देता है। 2 महीने में इस ऐप के डाउनलोड्स की संख्या 12 करोड़ से ज्यादा हो गई है।

इस तरह यह भारत में सबसे ज्यादा डाउनलोड किए गए हेल्थ ऐप्स की फेहरिस्त में शामिल हो गया है। सरकार ने हाल ही में इस ऐप को ऐंड्रॉयड यूजर्स के लिए ओपन सोर्स किया था। इसके बाद कुछ ही समय में ऐप ने 12 करोड़ डाउनलोड का आंकड़ा पार कर लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पीएमओ के ट्वीट में इसका जिक्र किया। पीएम ने अपने ट्वीट में कहा, 'मुझे यकीन है कि आपने आरोग्य सेतु के बारे में सुना होगा। 12 करोड़ सेहत के लिए सजग लोगों ने इसे डाउनलोड किया है। कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में इससे बहुत मदद मिली है।'

कोरोना वायरस के संक्रमण से आपको दूर रखने के लिए सरकार ने 2 अप्रैल को आरोग्य सेतु ऐप डेवलप किया था। देखते ही देखते कुछ ही दिनों के भीतर करोड़ों लोगों ने इसे डाउनलोड किया था।फिलहाल आरोग्य सेतु ऐप ने काम करना बंद कर दिया है। इसके पीछे वजह क्या है इसकी अभी पुष्टि नहीं हुई है लेकिन सरकार बार-बार लोगों से अपील करती रहती है कि इस ऐप का प्रयोग करें।

Post a Comment

0 Comments