अब सोशल मीडिया पर शराब बनाने के तरीके अपलोड, पुलिस चिंतित



- हजारों की संख्या में वीडियो मौजूद
- लॉकडाउन की अवधि में ज्यादा वीडियो हुए अपलोड

-चैनराज भाटी
पाली। मनमर्जी से शराब बनाना और प्रचार करना गैर कानूनी है। आबकारी अधिनियम [ Excise Act ] के तहत इसमें कानूनी कार्रवाई का प्रावधान है। लेकिन सोशल मीडिया [ Social Media ] पर अवैध शराब [ Illegal Liquor ] बनाने और उसे प्रचारित करने से रोकने लिए न तो कोई कानूनी प्रावधान है न ही कोई स्पष्ट गाइड लाइन, जो एक बड़े खतरे का संकेत है।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अनेक वीडियो अपलोड हैं, जिनके माध्यम से शराब बनाने के तरीके [ Ways To Make Wine ] बताए जा रहे हैं। स्पष्ट कानूनी प्रावधानों के अभाव में इस तरह के हालात मानव जीवन के लिए खतरे का कारण भी बन सकते हैं। ये तरीके कितने कारगर है और कितने नहीं? यह जांच का विषय है, लेकिन सीधे तौर पर इन्हें अवैध शराब बनाने के तरीकों को प्रचारित करने के रूप में देखा जा सकता है।

लॉक डाउन के दौरान अधिक अपलोड
गंभीर चिंता के साथ-साथ जांच का विषय यह है कि लॉकडाउन की अवधि के दौरान इनमें से खासे वीडियो अपलोड हुए हैं। इस अवधि में देश में लगभग हर क्षेत्र में एक माह तक शराब की खरीद और बिकवाली पर रोक भी थी। ऐसे में इन वीडियो के माध्यम से सीधे तौर पर अवैध तरीके सोशल मीडिया पर परोसे गए हैं।

सजा का प्रावधान
आबकारी अधिकारी विनोद वैष्णव का कहना है कि हथकढ़ी शराब किसी व्यक्ति से थोड़ी मात्रा में ही बरामद हो जाए तो सजा का प्रावधान है। प्रकरण दर्ज होता है, जिसमें सात साल तक की सजा का प्रावधान है।

सरकार बैन करें
शराब बनाने का तरीका सोशल मीडिया पर प्रचारित करने के संबंध में आईटी एक्ट या साइबर क्राइम के अनुसार कार्रवाई का कोई स्पष्ट प्रावधान नहीं है। लेकिन सरकार इस तरह की सामग्री को बैन कर सकती है। -मुकेश चौधरी, साइबर एक्सपर्ट, जयपुर

Post a Comment

0 Comments