चीन को बड़ा झटका, अमेरिका ने ZTE और हुआवे को बताया राष्ट्रीय खतरा

अमेरिकी फेडरल कम्युनिकेशन कमिशन ने चीन की इंटरनेट कंपनी हुआवे और ZTE को राष्ट्रीय खतरा बताया है। उसने अपने टेलिकॉम कंपनियों को कहा कि वे अपने नेटवर्क से चाइनीज इक्विपमेंट्स को हटाए।


   



चीन को अमेरिका ने दिया बड़ा झटका, ZTE और हुआवे को राष्ट्रीय खतरा बताया


US फेडरल कम्युनिकेशन कमिशन ने 5-0 से दोनों कंपनियों के खिलाफ वोट किया


अमेरिकी कंपनियों को इक्विपमेंट खरीदने को लेकर मिलने वाले 8.3 अरब डॉलर के फंड पर रोक


FCC ने कहा कि अमेरिकी टेलिकॉम कंपनियों को अपने इन्फ्रास्ट्रक्चर से चाइनीज इक्विपमेंट्स हटाने होंगे


नई दिल्ली
चीनी कंपनियों पर अब भारत के अलावा दूसरे देशों से बैन की कार्रवाई की जा रही है। पहले भारत ने कई चीनी कंपनियों का कॉन्ट्रैक्ट कैंसल किया। उसके बाद 59 चाइनीज ऐप पर रोक लगाई गई है। अब अमेरिका ने चीन के खिलाफ कार्रवाई की शुरुआत की है। US फेडरल कम्युनिकेशन कमिशन ने मंगलवार को 5-0 से मतदान कर चीन की टेक कंपनी हुआवे और ZTE को राष्ट्रीय खतरा बताया है।
सरकार ने फंड को रोका
इसके साथ ही अमेरिकी कंपनियों को इक्विपमेंट खरीदने को लेकर मिलने वाले 8.3 अरब डॉलर के फंड को ट्रंप सरकार ने रोक दिया है। अमेरिकी टेलिकॉम रेग्युलेटर ने नवंबर में ही इस बाबत 5-0 से मतदान किया था।

दोनों चाइनीज कंपनियों के इक्विपमेंट्स हटाने होंगे
US फेडरल कम्युनिकेश कमिशन (FCC)ने साफ-साफ कहा है कि टेलिकॉम कंपनियों को अपने इन्फ्रास्ट्रक्चर से इन दोनों चाइनीज कंपनियों के इक्विपमेंट्स को हटाना होगा। FCC चेयरमैन अजित पई ने कहा कि हम चाइनीज कम्युनिस्ट पार्टी को अमेरिकी सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं करने देंगे।


फिलहाल ZTE और हुआवे की तरफ से प्रतिक्रिया नहीं



FCC के आदेश को लेकर ZTE और हुआवे की तरफ से फिलहाल कोई तत्काल प्रतिक्रिया नहीं आई है। हालांकि जब नवंबर में उसके विरोध में वोटिंग हुई थी, तब उसने FCC की कार्रवाई की कड़ी निंदा की थी। FCC कमिश्नर Geoffrey Starks ने कहा कि चीन के इक्विपमेंट्स पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अमेरिकी कांग्रेस को इसे रिप्लेस करने के लिए फंड जारी करना चाहिए।

Post a Comment

0 Comments